Categories
Aarti

श्री सत्यनारायणजी की आरती Shree Satyanarayanji Ki Aarti Lyrics in Hindi

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा ।सत्यनारायण स्वामी, जन-पातक-हरणा ॥ जय लक्ष्मी रमणा ॥ रत्न जड़ित सिंहासन, अद्भुत छवि राजे ।नारद करत नीराजन, घंटा वन बाजे ॥ जय लक्ष्मी रमणा ॥ प्रकट भए कलि कारण, द्विज को दरस दियो ।बूढ़ो ब्राह्मण बनकर, कंचन महल कियो ॥ जय लक्ष्मी रमणा ॥ दुर्बल भील कठारो, जिन […]

Categories
Chanakya Niti

चाणक्य नीति (Chanakya Niti) chapter-5

Chanakya Niti (चाणक्य नीति) गुरुरग्निर्द्विजातीनां वर्णानां ब्राह्मणो गुरुः ।पतिरेव गुरुः स्त्रीणां सर्वस्याभ्यागतो गुरुः ।। (5. 1) ब्राह्मणों को अग्नि की पूजा करनी चाहिए . दुसरे लोगों को ब्राह्मण की पूजा करनी चाहिए . पत्नी को पति की पूजा करनी चाहिए तथा दोपहर के भोजन के लिए जो अतिथि आये उसकी सभी को पूजा करनी चाहिए. […]

Categories
Chanakya Niti

चाणक्य नीति (Chanakya Niti) chapter-1

प्रणम्य शिरसा विष्णुं त्रैलोक्याधिपतिं प्रभुम् ।नानाशास्त्रोद्धृतं वक्ष्ये राजनीतिसमुच्चयम् ॥ (1. 1) तीनो लोको के स्वामी सर्वशक्तिमान भगवान विष्णु को नमन करते हुए मै एक राज्य के लिए नीति शास्त्र के सिद्धांतों को कहता हूँ. मै यह सूत्र अनेक शास्त्रों का आधार ले कर कह रहा हूँ। Humbly bowing down before the almighty Lord Sri Vishnu, […]